प्रभात खबर के खिलाफ भी नोटिस जारी Prasar Bharti discusses launch of DD India, DD Kisanडीडी किसान चैनल ने लांचिंग से पहले छेड़ा प्रचार अभियानरत्नाकर दीक्षित के आए अच्छे दिन, फिर ब्यूरो में तैनातTata Coffee appoints Sanjiv Sarin as MD & CEOहिंदुस्तान, नोएडा से विनीत राय का इस्तीफा, नवभारत टाइम्स पहुंचे प्रभात खबर झारखंड और बिहार में सबसे तेज बढ़ता अखबाररूथ पोराट बनी गूगल की नई सीएफओनिम्स और न्यूज इंडिया के मालिक तोमर के घर के बाहर चिपकेगा ये पोस्टर अब 28 अप्रैल की हो बेहतर तैयारी टीवी पत्रकारों को जोकर किसने बनाया-3जनसंदेश टाइम्‍स के निदेशक रितेश अग्रवाल को हार्ट अटैक, मेदांता अस्‍पताल में भर्तीकल तो अर्नब ने हद ही कर दीजनसंदेश प्रबंधन कर्मचारियों से जबरन करा रहा शपथ पत्र पर दस्तखतSupreme Court to hear Contempt Petitions on 28th April,2015सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को वेब रत्न पुरस्कारगौतम कुंडू के गुर्गों का मीडिया पर हमला, तीन अस्पताल में भर्तीपूर्व विदेश सचिव निरुपमा राव नेटवर्क18 के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शामिलअपने मालिक बीएस तोमर के बचाव में उतरा न्यूज इंडिया अमर उजाला के कर्मचारियों के खाते में 12 हजार रुपये और उदय शंकर,नकवी और रजत शर्मा ही क्यों? दीपक, आशुतोष, विनोद कापड़ी जैसे लोग भी क्यों नहीं 12वें हफ्ते की टीआरपीः एबीपी दूसरे और इंडिया टीवी का बेडागर्क सुप्रीम कोर्ट में आज मजीठिया वेजबोर्ड को लेकर 30 केस की सुनवाईस्विस बैंक मामले में पायनियर अर्बन लैंड एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के सीएमडी मनीष पेरीवाल को सज्यादा हिरोइनों संग विज्ञापन करोगे तो ऐसे भी दिन देखने पड़ेंगे मशहूर लेखक विकास स्वरूप विदेश मंत्रालय में प्रवक्ता नियुक्तमजीठिया पर सुनवाई आज, प्रभात खबर में एकता तोड़ने की कोशिशश्रीकांत सिंह ने भेजा खत, साजिश की ओर किया इशाराहिंदी TV न्यूज चैनलों की बुरी मौत के लिए कौन जिम्मेदार देखते रहें, किस हद तक गिरता है दैनिक जागरण प्रबंधनएक हजार और एफएम रेडियो चैनल खोलेगी सरकारनिम्स, जयपुर के चेयरमैन बीएस तोमर को क्यों नहीं गिरफ्तार कर रही पुलिससहारा को यहां से भी नहीं मिला सहाराकोयलांचल संवाददाता संघ के अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव के पिता का निधनमधुबनी में पत्रकार के घर चोरी हेराल्ड मामले में समन अवैधदैनिक भास्कर जयपुर के संपादक एल पी पंत की प्रताडना से तंग आकर सिंघल ने दिया इस्तीफा चलो धारा 66ए के रद्द होने से इनको तो मिल गई राहत, 22 थे इनपर मुकदमे टीवी एशिया के पत्रकार को दिल का दौरा पड़ा, तो दौड़ पड़े सीक्रेट सर्विसेज के कर्मचारी, जान बची टाइम्स इंटरनेट और ऊबर के बीच 150 करोड़ का करार व्यापम घोटाले में फंसे एमपी के गवर्नर के बेटे शैलेश यादव की ब्रेन हैमरेज से मौतदफ़्तर नहीं , पैसा नहीं , लोग नहीं, फ़िल्म भी बन गई और National award भी मिल गया कांग्रेस के 31 नए मीडिया पैनलिस्ट ये रहे, देखिए नाम अमिताव घोष बुकर प्राइज के 10 फाइनलिस्ट मेंनोएडा में चैनल के चालक से लूटपाटसुब्रत राय के खिलाफ वारंट, एक और संकट कर रहा है इंतजारदांपत्य सूत्र बंधन में बंधे दैनिक जागरण के सीईओ संजय गुप्त के पुत्र ध्रुव मध्यप्रदेश के चार पत्रकारों को विकास संवाद मीडिया फैलोशिप, पोषण सुरक्षा पर करेंगे कामअजय शुक्ला ने हरेंद्र को किया मेल, एचआऱडी से करो संपर्क कॉरपोरेट और सरकार के दबाव के बिना जनता की मीडिया कंपनी शुरू करने की चल रही कवायद

​क्रिकेट में स्विंग तो राजनीति में स्टिंग ...!!​ ...

​क्रिकेट में स्विंग तो राजनीति में स्टिंग ...!!​ ...
तारकेश कुमार ओझा! जीवन में पहली बार स्टिंग की चर्चा सुनी तो मुझे लगा कि यह देश में धर्म का रूप ले चुके क्रिकेट की कोई न
तारकेश कुमार ओझा! जीवन में पहली बार स्टिंग की चर्चा सुनी तो मुझे लगा कि यह देश में धर्म का रूप ले चुके क्रिकेट की कोई नई विद्या होगी। क्योंकि क्रिकेट की कमेंटरी के दौरान मैं अक्सर सुनता था कि फलां गेंदबाज गेंद को अच्छी तरह से स्विंग करा रहा है या पिच पर गेंद अच्छे से स्विंग नहीं हो रही है वगैरह - वगैरह। लेकिन चैनलों के जरिए समझ बढ़ने पर पता चल ...

पाकिस्तान, श्रीलंका, अफगानिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश पत्रकारों के लिए ख ...

पाकिस्तान, श्रीलंका, अफगानिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश पत्रकारों के लिए ख ...
पत्रकारों के हितों की पैरोकार न्यूयॉर्क की संस्था कमिटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स’ (सीपीजे) की एक रिपोर्ट में उन देशों का उल्लेख है, जो पत्रकारों के लिए काम करने के लिहाज से सबसे खतरनाक हैं.
पत्रकारों के हितों की पैरोकार न्यूयॉर्क की संस्था कमिटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स’ (सीपीजे) की एक रिपोर्ट में उन देशों का उल्लेख है, जो पत्रकारों के लिए काम करने के लिहाज से सबसे खतरनाक हैं. इस सूची में भारत सहित दक्षिण एशिया के छह देश पाकिस्तान, श्रीलंका, अफगानिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश शामिल हैं. सीपीजे की रिपोर्ट में भारत 13 देशों की सूची में फि ...

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का सवाल ...

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का सवाल ...
मनोज कुमार! मानव समाज ने स्वयं को अनुशासित रखने के लिये अधिकार और दायित्व शब्द का निर्माण किया है किन्तु य
मनोज कुमार! मानव समाज ने स्वयं को अनुशासित रखने के लिये अधिकार और दायित्व शब्द का निर्माण किया है किन्तु यही दो शब्द वह अपनी सुविधा से उपयोग करता है. पुरुष प्रधान समाज की बात होती है तो अधिकार शब्द प्राथमिक हो जाता है और जब स्त्री की बात होती है तो दायित्व उसके लिये प्रथम. शायद समाज के निर्माण के साथ ही हम स्त्री को दायित्व का पाठ पढ़ाते आ रहे ह ...

मदर टेरेसा जैसा काम क्यों नहीं करता संघ? ...

मदर टेरेसा जैसा काम क्यों नहीं करता संघ? ...
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और हिन्दुत्व की विचारधारा से जुड़े तमाम लोगों को नरेन्द्र मोदी की सरकार बनने के बाद ऐसा प्रतीत हो रहा है कि अब उन्हें वे बातें खुल कर कहने की छूट मिल गई है जो वे पहले नहीं कह पाते थे।
डॉ संदीप पाण्डेय, सीएनएस। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और हिन्दुत्व की विचारधारा से जुड़े तमाम लोगों को नरेन्द्र मोदी की सरकार बनने के बाद ऐसा प्रतीत हो रहा है कि अब उन्हें वे बातें खुल कर कहने की छूट मिल गई है जो वे पहले नहीं कह पाते थे। इनमें से कई बातें विवादास्पद हैं। इधर अल्पसंख्यकों के धार्मिक स्थानों पर हमले भी बढ़ गए हैं। हमला करने वाले भी निडर ...

वर्तमान मीडिया में महिलाओं को नहीं पचा पा रहे हैं पुरूष ...

वर्तमान मीडिया में महिलाओं को नहीं पचा पा रहे हैं पुरूष ...
काश! मुझ जैसी हर साधारण एवं महत्वाकांक्षी लड़की को अच्छे माँ-बाप एवं उत्साहवर्धन करने वाला समाज तथा मेरे
काश! मुझ जैसी हर साधारण एवं महत्वाकांक्षी लड़की को अच्छे माँ-बाप एवं उत्साहवर्धन करने वाला समाज तथा मेरे शैक्षिक गुरू व पत्रकारिता गुरूकुल के गुरू की मानिन्द लोगों का सानिध्य, स्नेह एवं आशीर्वाद मिले, तभी पत्रकारिता के क्षेत्र में महिलाएँ छू सकेंगी उचाईयाँ। -रीता विश्वकर्मा पत्रकारिता (मीडिया/प्रेस) में महिलाओं का प्रवेश और योगदान बड़े शहरों म ...

तौबा करिए ऐसे छपास रोगियों से ...

तौबा करिए ऐसे छपास रोगियों से ...
-डॉ. भूपेन्द्र सिंह गर्गवंशी आप लेखक, विचारक पत्रकार रिपोर्टर हैं। आप को छपास रोग है, अपने ऊल-जुलूल आलेख एक साथ चार-पाँच
-डॉ. भूपेन्द्र सिंह गर्गवंशी आप लेखक, विचारक पत्रकार रिपोर्टर हैं। आप को छपास रोग है, अपने ऊल-जुलूल आलेख एक साथ चार-पाँच सौ लोगों लोगों को ई-मेल करते हैं। आपका वही मेल मुझे भी मिला है। धन्यवाद कहूँ या फिर अपना सिर पीटूँ। बहरहाल! इसको आप अपनी प्रॉब्लम न समझें- यह मेरी समस्या है मैं निबट लूँगा। एक बात कहना चाहूँगा, वह यह कि... खैर छोड़िये बस ऐसे भे ...

साक्षरता और परम्परा के मेल से बचेगा पानी ...

साक्षरता और परम्परा के मेल से बचेगा पानी ...
-मनोज कुमार करीब तीन दशकों से जल संकट को लेकर विश्वव्यापी बहस छिड़ चुकी है। यहां तक कहा जा रहा है कि अगला विश्व युद्ध पानी के मुद्दे पर लड़ा जायेगा। स्थिति की गंभीरता को नकारा नहीं जा सकता है।
-मनोज कुमार करीब तीन दशकों से जल संकट को लेकर विश्वव्यापी बहस छिड़ चुकी है। यहां तक कहा जा रहा है कि अगला विश्व युद्ध पानी के मुद्दे पर लड़ा जायेगा। स्थिति की गंभीरता को नकारा नहीं जा सकता है। इस दिशा में राज्य सरकार अपने अपने स्तर पर पहल कर रही हैं और जल संरक्षण की दिशा में नागरिकों को जागरूक बनाया जा रहा है। जल संरक्षण की दिशा में उपाय बरतने ...

The media we don’t see ...

The media we don’t see ...
A fortnight before the Delhi assembly polls, an editor of a leading Hindi News Channel, India TV’s Rajat Sharma, concluded his prime time bulletin with an air of
A fortnight before the Delhi assembly polls, an editor of a leading Hindi News Channel, India TV’s Rajat Sharma, concluded his prime time bulletin with an air of undignified judgment. He called Arvind Kejriwal an ‘anarchist’, who does not have the requisite “manners for public discourse”. “Why would Kiran Bedi accept an offer for debate by an an ...

एक गांधी का ‘महात्मा’ हो जाना ...

एक गांधी का ‘महात्मा’ हो जाना ...
-मनोज कुमार! संसार में एक ही व्यक्ति हुआ है जिसे नाम से नहीं काम से पहचाना गया. समाज के द्वारा स्वस्फूर्त रूप प्रदान की गई उपाधि ‘महात्मा’ ने उनके नाम का स्थान लिया और वे नाम से ऊपर उठ गये. सौ
-मनोज कुमार! संसार में एक ही व्यक्ति हुआ है जिसे नाम से नहीं काम से पहचाना गया. समाज के द्वारा स्वस्फूर्त रूप प्रदान की गई उपाधि ‘महात्मा’ ने उनके नाम का स्थान लिया और वे नाम से ऊपर उठ गये. सौ बरस से अधिक समय से हम किसी को जानते हैं तो वे हैं महात्मा गांधी. बहुतेरों को यह स्मरण भी नहीं होगा कि दरअसल, उनका नाम महात्मा गांधी नहीं बल्कि मोहनदास करमच ...

मीडिया की मंडी में हम-5 ...

 मीडिया की मंडी में हम-5 ...
! यूं कहें तो मेरी शुरुआत जयपुर की लोकल रिपोर्टिंग से हुई,इसका फायदा यह हुआ कि मैंने जयपुर को जल्दी से समझा और जयपुर ने मुझे। कल्चरल रिपोर्टिंग मेरी प्रिय बीट थी, वह इकबाल खान के पास थी पर उनके अवकाश पर होने पर इसे चुराने का मौका मैंने कभी
Dhiraj Kulshreshtha! यूं कहें तो मेरी शुरुआत जयपुर की लोकल रिपोर्टिंग से हुई,इसका फायदा यह हुआ कि मैंने जयपुर को जल्दी से समझा और जयपुर ने मुझे। कल्चरल रिपोर्टिंग मेरी प्रिय बीट थी, वह इकबाल खान के पास थी पर उनके अवकाश पर होने पर इसे चुराने का मौका मैंने कभी नहीं छोड़ा। विश्वास कुमार चीफ रिपोर्टर थे और राजस्थान की पत्रकारिता के स्टार रिपोर्टर भी।उन ...

वाराणसी में आतंकी हमले में मारे गये पत्रकारों को दी गई श्रद्धांजलि ...

वाराणसी में आतंकी हमले में मारे गये पत्रकारों को दी गई श्रद्धांजलि  ...
वाराणसी। डा. सम्पूर्णानंद की पुण्यतिथि पर अखिल भारतीय कायस्थ महासभा व विचारमंच के संयुक्त तत्वावधान में शनिवार को शाम पांच बजे तेलियाबाग पार्क में लगी सम्पूर्णानंद की मूर्ति पर माल्यार्पण कर उन्हें याद किया गया। कायस्थ विचार मंच की राष्ट्रीय अध्यक्ष गीता श्रीवास्तव के नेतृत्व में लोगों ने पेरिस में हुए आतंकी हमले में मारे गये पत्रकारों को कैंडिल जलाकर श्रद्धांजलि दी।
वाराणसी। डा. सम्पूर्णानंद की पुण्यतिथि पर अखिल भारतीय कायस्थ महासभा व विचारमंच के संयुक्त तत्वावधान में शनिवार को शाम पांच बजे तेलियाबाग पार्क में लगी सम्पूर्णानंद की मूर्ति पर माल्यार्पण कर उन्हें याद किया गया। कायस्थ विचार मंच की राष्ट्रीय अध्यक्ष गीता श्रीवास्तव के नेतृत्व में लोगों ने पेरिस में हुए आतंकी हमले में मारे गये पत्रकारों को कैंडिल जल ...

मांझी के ईद-गिर्द सिमटता मीडिया व राजनीति ...

मांझी के ईद-गिर्द सिमटता मीडिया व राजनीति ...
संजय कुमार! बिहार में राजनीतिक और प्रशासनिक कवायद सिर्फ एक ही व्यक्ति के ईद-गिर्द सिमटती जा रही है। वह है मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, जो अपने बयानों से खासे चर्चित हैं। इनके बयान राजनीतिक गलियारे को गरम करने के लिए काफी होते हैं। इसमें मीडिया की भूमिका अहम है। जाहिर
संजय कुमार! बिहार में राजनीतिक और प्रशासनिक कवायद सिर्फ एक ही व्यक्ति के ईद-गिर्द सिमटती जा रही है। वह है मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, जो अपने बयानों से खासे चर्चित हैं। इनके बयान राजनीतिक गलियारे को गरम करने के लिए काफी होते हैं। इसमें मीडिया की भूमिका अहम है। जाहिर है ऐसे में विकास कार्य और जनसमस्याओं का समाधान कैसे हो सकता है? खुद ...

FAKEएनकाउंटर ! ये डाउट तो मुझे भी है-अन्ना हज़ारे ...

FAKEएनकाउंटर ! ये डाउट तो मुझे भी है-अन्ना हज़ारे ...
फ्लाइट से पुणे और फिर वहाँ से टैक्सी लेकर जब मैं रालेगन सिद्धि पहुँचा तो दिन ढल चुका था। अन्ना हज़ारे के आश्रम में उस समय सन्नाटा पसरा हुआ था। पक्षियों की चहचहाहट के अलावा कुछ भी सुनाई नहीं
फ्लाइट से पुणे और फिर वहाँ से टैक्सी लेकर जब मैं रालेगन सिद्धि पहुँचा तो दिन ढल चुका था। अन्ना हज़ारे के आश्रम में उस समय सन्नाटा पसरा हुआ था। पक्षियों की चहचहाहट के अलावा कुछ भी सुनाई नहीं पड़ रहा था। मैंने इस तरह की वीरानगी की अपेक्षा नहीं की थी। मुझे लगा था कि चहल-पहल होगी, मुलाकातियों की भीड़भाड़ होगी। मगर कुछ भी न था। मैंने वहाँ गाँधी टोपी ...

मीडिया का मजा ...

मीडिया का मजा ...
मनोज कुमार! गांव-देहात में एक पुरानी कहावत है गरीब की लुगाई, गांव भर की भौजाई. शायद हमारे मीडिया का भी यही हाल हो चुका है. मीडिया गरीब की लुगाई भले ही न हो लेकिन गांव भर की भौजाई तो बन ही चुकी है और इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है. मीडिया
मनोज कुमार! गांव-देहात में एक पुरानी कहावत है गरीब की लुगाई, गांव भर की भौजाई. शायद हमारे मीडिया का भी यही हाल हो चुका है. मीडिया गरीब की लुगाई भले ही न हो लेकिन गांव भर की भौजाई तो बन ही चुकी है और इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है. मीडिया का जितना उपयोग बल्कि इसे दुरूपयोग कहें तो ज्यादा बेहतर है, हमारे देश में सब लोग अपने अपने स्तर पर कर रहे ...

फेक एनकाउंटर! शास्त्र जरूरी हैं, विज्ञान नहीं: स्मृति ईरानी ...

 फेक एनकाउंटर!   शास्त्र जरूरी हैं, विज्ञान नहीं: स्मृति ईरानी  ...
स्मृति ईरानी से इंटरव्यू के लिए समय लेने के लिए मुझे थोड़ा झूठ का सहारा लेना पड़ा। मैंने अपने नाम के आगे आचार्य लगा लिया। सोचा था डॉ. तो हूं ही, अगर पूछा तो कह दूंगा कि संस्कृत
मुकेश कुमार! संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी से इंटरव्यू के लिए समय लेने के लिए मुझे थोड़ा झूठ का सहारा लेना पड़ा। मैंने अपने नाम के आगे आचार्य लगा लिया। सोचा था डॉ. तो हूं ही, अगर पूछा तो कह दूंगा कि संस्कृत में आचार्य कहा जाऊंगा। इससे वे और भी खुश हो जाएंगी। झूठ भी इसलिए बोलना पड़ा था कि लगातार विवादों में फंसने के कारण वे इंटरव्यू देने से बच रह ...

बटरिंग ' से ज्यादा कुछ नहीं चैनलों का महामंच...!! ...

बटरिंग ' से ज्यादा कुछ  नहीं चैनलों का महामंच...!! ...
क्या खबरों की दुनिया में भी कई ' उपेक्षित कोने ' हो सकते हैं। मीडिया का सूरतेहाल देख कर तो कुछ एेसा ही प्रतीत होता है। खबरों की भूख शांत करने औऱ देश- दुनिया की पल - पल की खबरों के मामले में अपडेट रहने के लिए घर पर होने के दौरान चैनलों को निहारते रहना आदत सी बन चुकी है और मजबूरी भी। लेकिन
तारकेश कुमार ओझा! क्या खबरों की दुनिया में भी कई ' उपेक्षित कोने ' हो सकते हैं। मीडिया का सूरतेहाल देख कर तो कुछ एेसा ही प्रतीत होता है। खबरों की भूख शांत करने औऱ देश- दुनिया की पल - पल की खबरों के मामले में अपडेट रहने के लिए घर पर होने के दौरान चैनलों को निहारते रहना आदत सी बन चुकी है और मजबूरी भी। लेकिन पता नहीं क्यों पिछले कुछ दिनों से मुझे ...

सम्पादक जी, ये तो ना करिए, ये देश आपका ऋणी रहेगा ...

सम्पादक जी, ये तो ना करिए, ये देश आपका ऋणी रहेगा ...
Nadim S. Akhter। चिंता मत करिए. -अच्छे दिन- आ गए हैं. क्या यूपी, क्या एमपी और क्या दिल्ली और क्या भारत-क्या इंडिया...ऐसे -अच्छे दिनों- की ख्वाहिश इस देश की जनता ने तो नहीं ही की थी. फिर ये किसके अच्छे दिन हैं?? फैसला आप कीजिए.
Nadim S. Akhter। चिंता मत करिए. -अच्छे दिन- आ गए हैं. क्या यूपी, क्या एमपी और क्या दिल्ली और क्या भारत-क्या इंडिया...ऐसे -अच्छे दिनों- की ख्वाहिश इस देश की जनता ने तो नहीं ही की थी. फिर ये किसके अच्छे दिन हैं?? फैसला आप कीजिए. ऩए-नवेले संगठन, नए-नए चेहरे टीवी की बहस में जगह पा रहे हैं. वो जितना जहर उगलेंगे, उतनी ही उनकी दुकान चलेगी. शायद -आका- ...

जो लोकशाही के निगहबान थे, वे बन गए चारण ...

जो लोकशाही के निगहबान थे, वे बन गए चारण ...
पुण्य प्रसून वाजपेयी! साल भर पहले राष्ट्रपति की मौजूदगी में राष्ट्रपति भवन में ही एक राष्ट्रीय न्यूज चैनल ने अपना पच्चीसवां जन्मदिन मना लिया। तब कहा गया कि मनमोहन सिंह का दौर है। कुछ
पुण्य प्रसून वाजपेयी! साल भर पहले राष्ट्रपति की मौजूदगी में राष्ट्रपति भवन में ही एक राष्ट्रीय न्यूज चैनल ने अपना पच्चीसवां जन्मदिन मना लिया। तब कहा गया कि मनमोहन सिंह का दौर है। कुछ भी हो सकता है। पिछले दिनों एक न्यूज चैनल ने अपने एक कार्यक्रम के 21 बरस पूरे होने का जश्न मनाया तो उसमें राष्ट्रपति समेत प्रधानमंत्री और उनकी कैबिनेट के अलावा नौकरशाह, ...

एक त्रासदी का खबरनामा ...

एक त्रासदी का खबरनामा ...
-मनोज कुमार तीस बरस का समय कम नहीं होता है। भोपाल के बरक्स देखें तो यह कल की ही बात लगती है। 2-3 दिसम्बर की वह रात और रात की तरह गुजर जाती किन्तु ऐसा हो न सका। यह तारीख न केवल भोपाल के इतिहास में बल्कि दुनिया की भीषणतम त्रासदियों में शुमार हो गया है। यह कोई मामूली दुर्घटना नहीं थी बल्कि यह त्रासदी थी। एक ऐसी त्रासदी जिसका दुख, जिसकी पीड़ा और इससे उपजी अगिनत तकलीफें हर पल इस बात का स्मरण कराती रहेंगी कि साल 1984 की वह 2-3 दिसम्बर की आधी रात कितनी भयावह थी।
-मनोज कुमार तीस बरस का समय कम नहीं होता है। भोपाल के बरक्स देखें तो यह कल की ही बात लगती है। 2-3 दिसम्बर की वह रात और रात की तरह गुजर जाती किन्तु ऐसा हो न सका। यह तारीख न केवल भोपाल के इतिहास में बल्कि दुनिया की भीषणतम त्रासदियों में शुमार हो गया है। यह कोई मामूली दुर्घटना नहीं थी बल्कि यह त्रासदी थी। एक ऐसी त्रासदी जिसका दुख, जिसकी पीड़ा और इस ...

सत्य की खोज में खड़ा सिस्टम यादव सिंह के “सत्य” में समाहित हो चुका है ...

सत्य की खोज में खड़ा सिस्टम यादव सिंह के “सत्य” में समाहित हो चुका है ...
सत्य की खोज पुलिस से शुरू होती हुई मीडिया के रास्ते चलती हुई जांच कमीशनों की दहलीज़ पार कर न्याय की तराजू पकडे अदालत की अंतिम मंजिल तक जाती है. यहाँ भी कई सीढ़ियों पर
सड़ते सिस्टम में फलते-फूलते यादव सिंह, आखिर निदान क्या है ? एनके सिंह! सत्य की खोज पुलिस से शुरू होती हुई मीडिया के रास्ते चलती हुई जांच कमीशनों की दहलीज़ पार कर न्याय की तराजू पकडे अदालत की अंतिम मंजिल तक जाती है. यहाँ भी कई सीढ़ियों पर सत्य की खोज होती है. अगर यह खोज आगे बड़ी भी तो सर्वोच्च न्यायलय की अंतिम चौखट पर जा कर ख़त्म हो जाती है. इनकम टै ...

मक्खी मीडिया बनाम मधुमक्खी मीडिया ...

मक्खी मीडिया बनाम मधुमक्खी मीडिया ...
अब यह तो मोदी ही जानते हैं कि उन्होंने मीडिया पर तंज कसने के लिए मक्खी बनाम मधु मक्खी ही क्यों चुनी .
अब यह तो मोदी ही जानते हैं कि उन्होंने मीडिया पर तंज कसने के लिए मक्खी बनाम मधु मक्खी ही क्यों चुनी . मोदी कहते हैं कि पत्रकारों को मक्खी नहीं होना चाहिए जो गंदगी पर बैठती है और गंदगी फैलाती है . पत्रकार को तो मधुमक्खी की तरह होना चाहिए जो शहद पर बैठती है और उसकी राह में आने वाले को डंक मारती है . सवाल उठता है कि अगर हर कोई शहद पर ही बैठेगा तो गंदग ...

अमित शाह ने किया ‘मैनेजमेंट गुरू नरेंद्र मोदी’ का विमोचन ...

अमित शाह ने किया ‘मैनेजमेंट गुरू नरेंद्र मोदी’ का विमोचन ...
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने डायमंड बुक्स से प्रकाशित हिमांशु शेखर की पुस्तक ‘मैनेजमेंट गुरु नरेंद्र मोदी’ का विमोचन किया. इस मौके पर श्री शाह ने ऐसी पुस्तक के प्रकाशन के लिए डायमंड बुक्स के निदेशक श्री नरेंद्र वर्मा को बधाई दी और कहा की आप आगे भी ऐसी पुस्तकों का प्रकाशन करें. अमित शाह ने कहा की यह एक ऐसी पुस्तक है
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने डायमंड बुक्स से प्रकाशित हिमांशु शेखर की पुस्तक ‘मैनेजमेंट गुरु नरेंद्र मोदी’ का विमोचन किया. इस मौके पर श्री शाह ने ऐसी पुस्तक के प्रकाशन के लिए डायमंड बुक्स के निदेशक श्री नरेंद्र वर्मा को बधाई दी और कहा की आप आगे भी ऐसी पुस्तकों का प्रकाशन करें. अमित शाह ने कहा की यह एक ऐसी पुस्तक है जिसमे ...

तारा शाहदेव और मीडिया का ''धर्मपरिवर्तन'' ...

तारा शाहदेव और मीडिया का ''धर्मपरिवर्तन'' ...
यह ख़बर आज के इक्का-दुक्का अख़बारों के इक्का-दुक्का संस्करणों में ही किसी कोने पर है कि रांची की सीजेएम कोर्ट ने तारा शाहदेव प्रकरण में सिर्फ ''दहेज प्रताड़ना'' के आरोप का संज्ञान लिया है। राष्ट्रीय स्तर की निशानेबाज़ तारा शाहदेव के जबरन धर्मपरिवर्तन की जो ख़बर महीनों मीडिया में छाई रही, अदालत ने उसका संज्ञान लेना भी ज़रूरी नहीं समझा।
Pankaj Parvez। सीबीआई ने पांच महीने की जाँच के बाद दावा किया है कि बदायूँ कांड, हत्या-बलात्कार नहीं, खुदकुशी का मामला है। मीडिया ने इस काँड की झंडागाड़ रिपोर्टिंग की थी। पेश है इसी प्रवृत्ति पर 8 नवंबर को पोस्ट की गयी एक टिप्पणी--- तारा शाहदेव और मीडिया का ''धर्मपरिवर्तन'' ---------------------------------------------------------- यह ख़बर आज क ...

पत्रकार को मातृशोक ...

पत्रकार को मातृशोक ...
गाजीपुर पत्रकार एसोसिएशन की बैठक कचहरी स्थित कैम्प कार्यालय पर सोमवार को हुई। इसमें पत्रकार सतेन्द्र नाथ शुक्ल की माता बादामी देवी (90) के निधन पर..................................................
गाजीपुर। गाजीपुर पत्रकार एसोसिएशन की बैठक कचहरी स्थित कैम्प कार्यालय पर सोमवार को हुई। इसमें पत्रकार सतेन्द्र नाथ शुक्ल की माता बादामी देवी (90) के निधन पर शोक व्यक्त किया गया। बादामी देवी का निधन रविवार की रात हो गया। छोटे पुत्र रविन्द्र नाथ शुक्ला ने मुखागिभन दी। इस मौके पर चन्द्र कुमार तिवारी, अनिल उपाध्याय, अशोक श्रीवास्तव, गुलाब राय, विनोद गुप ...

FAKE एनकाउंटर- -सेल्फी लेने-न लेने की खुशी और ग़म- ...

 FAKE एनकाउंटर- -सेल्फी लेने-न लेने की खुशी और ग़म- ...
न्यौता तो संपादक जी को आया था। वे जाना भी चाहते थे, मगर कोई ऐसी मजबूरी रही होगी कि जा नहीं सकते थे। लिहाजा, मन मारकर उन्होंने मेरी ड्यूटी लगा दी। अंधा क्या चाहे दो आँख और पत्रकार क्या चाहे, मोदी के साथ एक सेल्फी। बस मैंने पुरानी सदरी प्रेस करके पहनी और पहुँच गया अशोक रोड स्थित बीजेपी के दफ़्तर। बस से नहीं, टैक्सी लेकर।
न्यौता तो संपादक जी को आया था। वे जाना भी चाहते थे, मगर कोई ऐसी मजबूरी रही होगी कि जा नहीं सकते थे। लिहाजा, मन मारकर उन्होंने मेरी ड्यूटी लगा दी। अंधा क्या चाहे दो आँख और पत्रकार क्या चाहे, मोदी के साथ एक सेल्फी। बस मैंने पुरानी सदरी प्रेस करके पहनी और पहुँच गया अशोक रोड स्थित बीजेपी के दफ़्तर। बस से नहीं, टैक्सी लेकर। आख़िर प्रधानमंत्री से मिलने ...

दिल्ली के मीडियावाले भी कहीं भी चले जाते हैं ...

दिल्ली के मीडियावाले भी कहीं भी चले जाते हैं ...
उत्तर भारत संत समिति के अध्यक्ष तथा कांग्रेस हाईकमान तक अपनी सीधी पकड रखने वाले आचार्य प्रमोद कृष्णन ने नैनीताल में दिये गये एक बयान में कहा कि योगगुरू बाबा रामदेव को मुख्यमंत्री से दोस्ती मुबारक। य
देदून से चन्‍द्रशेखर जोशी की एक्‍सक्‍लूसिव रिपोर्ट उत्तर भारत संत समिति के अध्यक्ष तथा कांग्रेस हाईकमान तक अपनी सीधी पकड रखने वाले आचार्य प्रमोद कृष्णन ने नैनीताल में दिये गये एक बयान में कहा कि योगगुरू बाबा रामदेव को मुख्यमंत्री से दोस्ती मुबारक। यह कह कर उन्होंने सीधे सीधे मुख्यमंत्री पर तंज कसा कि जवाहर लाल नेहरू तथा कांग्रेस हाईकमान को स ...

जीवन सूत्र अपने को अपरिहार्य मानने की भूल न करें ...

 जीवन सूत्र अपने को अपरिहार्य मानने की भूल न करें ...
एक मनुष्य के नाते हम ऐसी कई गलतियां करते हैं जो हमारे भौतिक एवं आध्यात्मिक दोनों जीवन में पतन का कारण बन जाते हैं। उदाहरण के लिए हम यदि किसी संस्था के लिए काम करते हैं तो उस संस्था का विकास होता है और हमें वाहवाही मिलती है तो हम मानते हैं इसका श्रेय हमें ही मिलना चाहिए। हम कई बार अपने को अपरिहार्य मान लेते हैं।
एक मनुष्य के नाते हम ऐसी कई गलतियां करते हैं जो हमारे भौतिक एवं आध्यात्मिक दोनों जीवन में पतन का कारण बन जाते हैं। उदाहरण के लिए हम यदि किसी संस्था के लिए काम करते हैं तो उस संस्था का विकास होता है और हमें वाहवाही मिलती है तो हम मानते हैं इसका श्रेय हमें ही मिलना चाहिए। हम कई बार अपने को अपरिहार्य मान लेते हैं। यह सोच लेते हैं कि मेरे कारण ऐसा हुआ ...

FAKE एनकाउंटर- -डोंट फाल इन टू द ट्रैप ऑफ होप एंड चेंज-ओबामा- ...

FAKE एनकाउंटर- -डोंट फाल इन टू द ट्रैप ऑफ होप एंड चेंज-ओबामा- ...
सुबह-सुबह जब मेरे घर के सामने लंबी काली मर्सिडीज़ गाड़ी रुकी और उसमें से दो अमरीकियों को मैंने सामने खड़ा पाया तो मेरी रूह काँप गई। मुझे लगा हो न हो ये सीआईए के एजेंट होंगे और मुझे उठाकर गुआंटीनामो ले जाएंगे। वहाँ वे मुझे टॉर्चर करेंगे और कोई ऐसा गुनाह कबूल करवाएंगे, जो मैंने किया ही नहीं था। मुझे अपने वे तमाम पुराने
सुबह-सुबह जब मेरे घर के सामने लंबी काली मर्सिडीज़ गाड़ी रुकी और उसमें से दो अमरीकियों को मैंने सामने खड़ा पाया तो मेरी रूह काँप गई। मुझे लगा हो न हो ये सीआईए के एजेंट होंगे और मुझे उठाकर गुआंटीनामो ले जाएंगे। वहाँ वे मुझे टॉर्चर करेंगे और कोई ऐसा गुनाह कबूल करवाएंगे, जो मैंने किया ही नहीं था। मुझे अपने वे तमाम पुराने लेख याद आने लगे जिनमें मैंने ...

इंडियन फेडरेशन आॅफ वर्किंग जर्नलिस्ट की राष्ट्रीय कार्य परिषद की बैठक ल ...

 इंडियन फेडरेशन आॅफ वर्किंग जर्नलिस्ट की राष्ट्रीय कार्य परिषद की बैठक ल ...
भोपाल। इंडियन फेडरेशन आॅफ वर्किंग जर्नलिस्ट की राष्ट्रीय कार्य परिषद की बैठक 17 एवं 18 नवबंर को लखनऊ में आयोजित की गई है। इस संबंध में इंडियन फेडरेशन आॅफ वर्किंग जर्नलिस्ट के सेक्रेट्री जनरल श्री परमानंद पांडे के अनुसार 17 एवं 18 नवंबर को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गांधी भवन में परिषद के 68वें सत्र की शुरूआत होगी।
भोपाल। इंडियन फेडरेशन आॅफ वर्किंग जर्नलिस्ट की राष्ट्रीय कार्य परिषद की बैठक 17 एवं 18 नवबंर को लखनऊ में आयोजित की गई है। इस संबंध में इंडियन फेडरेशन आॅफ वर्किंग जर्नलिस्ट के सेक्रेट्री जनरल श्री परमानंद पांडे के अनुसार 17 एवं 18 नवंबर को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गांधी भवन में परिषद के 68वें सत्र की शुरूआत होगी। दो दिन तक चलने वाले इस सत्र ...

बाल पत्रकारिता : संभावना एवं चुनौतियां ...

बाल पत्रकारिता : संभावना एवं चुनौतियां ...
-मनोज कुमार बीते 5 सितम्बर 2014, शिक्षक दिवस के दिन जब देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बच्चों से रूबरू हो रहे थे तब उनके समक्ष देशभर से हजारों की संख्या में जिज्ञासु बच्चे सामने थे। अपनी समझ और कुछ
-मनोज कुमार बीते 5 सितम्बर 2014, शिक्षक दिवस के दिन जब देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बच्चों से रूबरू हो रहे थे तब उनके समक्ष देशभर से हजारों की संख्या में जिज्ञासु बच्चे सामने थे। अपनी समझ और कुछ झिझक के साथ सवाल कर रहे थे। इन्हीं हजारों बच्चों में छत्तीसगढ़ दंतेवाड़ा से एक बच्ची ने आदिवासी बहुल इलाके में उच्चशिक्षा उपलब्ध कराने संबंधी सव ...

कैलाश सत्यार्थी के नाम- हुनर को खत्म करने की साजिश ...

कैलाश सत्यार्थी के नाम- हुनर को खत्म करने की साजिश ...
(कॅंवल भारती)। जिन्होंने भी दलित लेखक श्योराजसिंह बेचैन की आत्मकथा ‘मेरा बचपन मेरे कंधों पर’ पढ़ी है, वे जानते होंगे कि किस तरह लेखक ने मृतक पशुओं को उठाने और उनकी खाल उतारने से लेकर खेत-खलिहानों तक में मजदूरी करके अपना और अपने भाई-बहनों का पेट पाला था। मेरा सवाल यहाँ यह है कि अगर बालश्रम कानून के तहत उस बालक को मजदूरी करने से रोक दिया गया होता, तो उसका और उसके परिवार का क्या हुआ होता?
(कॅंवल भारती)। जिन्होंने भी दलित लेखक श्योराजसिंह बेचैन की आत्मकथा ‘मेरा बचपन मेरे कंधों पर’ पढ़ी है, वे जानते होंगे कि किस तरह लेखक ने मृतक पशुओं को उठाने और उनकी खाल उतारने से लेकर खेत-खलिहानों तक में मजदूरी करके अपना और अपने भाई-बहनों का पेट पाला था। मेरा सवाल यहाँ यह है कि अगर बालश्रम कानून के तहत उस बालक को मजदूरी करने से रोक दिया गया होता, ...

जिंदल स्टील के खिलाफ सीबीआई ने शुरू की जांच ...

जिंदल स्टील के खिलाफ सीबीआई ने शुरू की जांच ...
नई दिल्ली। सीबीआई ने जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ ताजा जांच शुरू कर दी है। आरोप है कि जिंदल स्टील ने पर्यावरण मंत्रालय के अधिकारियों के साथ मिलकर खनन के लिए झारखंड में वन भूमि उपयोग में फेरबदल किया है।
नई दिल्ली। सीबीआई ने जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ ताजा जांच शुरू कर दी है। आरोप है कि जिंदल स्टील ने पर्यावरण मंत्रालय के अधिकारियों के साथ मिलकर खनन के लिए झारखंड में वन भूमि उपयोग में फेरबदल किया है। सीबीआई सूत्रों ने कहा कि जेएसपीएल और पर्यावरण मंत्रालय ने कथित तौर पर अनियमितताएं बरतते हुए 2007-13 के बीच सारं ...

जुकरबर्ग को आप जानते हैं? मैं नहीं जानता ...

जुकरबर्ग को आप जानते हैं? मैं नहीं जानता  ...
जुकरबर्ग को आप जानते हैं? मैं नहीं जानता और न ही मेरी जानने में कोई रुचि है। दरअसल, पिछले दिनों ये कोई जुकरबर्ग नाम के शख्स ने हिन्दी पत्रकारों के साथ
मनोज कुमार,वरिष्ठ पत्रकार, मध्यप्रदेश जुकरबर्ग को आप जानते हैं? मैं नहीं जानता और न ही मेरी जानने में कोई रुचि है। दरअसल, पिछले दिनों ये कोई जुकरबर्ग नाम के शख्स ने हिन्दी पत्रकारों के साथ जो व्यवहार किया, वह अनपेक्षित नहीं था। वास्तव में ये महाशय भारत में तो आये नहीं थे। इनका वेलकम तो इंडिया में हो रहा था। फिर ये भारतीय पत्रकारों को क्यो ...

मैंने संघ क्यों छोड़ा? ...

मैंने संघ क्यों छोड़ा? ...
विकास पाठक, सहायक प्रोफ़ेसर, शारदा यूनिवर्सिटी। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी अपने को 'राष्ट्रवादी' विचारधारा से संचालित संगठन बताते हैं.
विकास पाठक, सहायक प्रोफ़ेसर, शारदा यूनिवर्सिटी। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी अपने को 'राष्ट्रवादी' विचारधारा से संचालित संगठन बताते हैं. मेरे विचार से भारत में 'राष्ट्रवाद' की विचारधारा की जनक भाजपा से ज़्यादा कांग्रेस रही है.वहीं, संघ की विचारधारा एक समुदाय मात्र को मजबूत करने वाली प्रतीत होती है.भारत जैसी सांस्कृतिक विविधता वाले ...

वर्तमान राजनीति में पत्रकार क्या करे ...

वर्तमान राजनीति में पत्रकार क्या करे ...
कई बार विचार आता है कि फेसबुक पर राजनीति पर कम से कम लिखूं। अखबारों में तो लिखता ही रहता हूं। बहस में भी बोलना ही पड़ता है। इसका पहला कारण तो यह है कि दुर्भाग्य से देश के सारे मुद्दे पर राजनीति के हाबी हो जाने से हमारा समाज कई प्रकार के संकटों का शिकार हुआ। इनमें सांस्कृतिक, सामाजिक, आध्यात्मिक...सभी प्रकार के संकट हैं।
Awadhesh Kumar। मित्रों, कई बार विचार आता है कि फेसबुक पर राजनीति पर कम से कम लिखूं। अखबारों में तो लिखता ही रहता हूं। बहस में भी बोलना ही पड़ता है। इसका पहला कारण तो यह है कि दुर्भाग्य से देश के सारे मुद्दे पर राजनीति के हाबी हो जाने से हमारा समाज कई प्रकार के संकटों का शिकार हुआ। इनमें सांस्कृतिक, सामाजिक, आध्यात्मिक...सभी प्रकार के संकट हैं। ...

एक पत्रकार की नजर से देखिए गांधी मैदान को ...

एक पत्रकार की नजर से देखिए गांधी मैदान को ...
Gyaneshwar Vatsyayan। खबरों का योद्धा हूं । सोमवार को पटना की सड़कों पर आंखें बहुत कुछ पढ़ रही थी । सरकार का खूनी चेहरा/इरादा/पागलपन साफ दिख रहा था । नेपथ्‍य में गांधी मैदान का दशहरा हादसा था । आंखों की स्‍टडी को तुलनात्‍मक भी रखना था ।
Gyaneshwar Vatsyayan। खबरों का योद्धा हूं । सोमवार को पटना की सड़कों पर आंखें बहुत कुछ पढ़ रही थी । सरकार का खूनी चेहरा/इरादा/पागलपन साफ दिख रहा था । नेपथ्‍य में गांधी मैदान का दशहरा हादसा था । आंखों की स्‍टडी को तुलनात्‍मक भी रखना था । बगैर तस्‍वीरों की बात नहीं बनती । इस पोस्‍ट के साथ कुल आठ तस्‍वीरें हैं । सबों को बहुत ध्‍यान से देखियेगा । ...

थानवी साहब के सवाल का प्रदीप ने यूं दिया जवाब ...

थानवी साहब के सवाल का प्रदीप ने यूं दिया जवाब ...
Om Thanvi (थानवी साहब के सवाल)। अमेरिका के राष्ट्रपति हर शनिवार रेडियो पर मन की बात कहते हैं, "वीकली एड्रेस" नाम से। शायद उससे थोड़ी प्रेरणा नरेंद्र
Om Thanvi (थानवी साहब के सवाल)। अमेरिका के राष्ट्रपति हर शनिवार रेडियो पर मन की बात कहते हैं, "वीकली एड्रेस" नाम से। शायद उससे थोड़ी प्रेरणा नरेंद्र मोदी लेते आए हैं। पर हमारे प्रधानमंत्री ने अपने पहले रेडियो प्रसारण के लिए विजयदशमी का दिन चुना, जो हिन्दू त्योहार है और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का स्थापना दिवस भी है। बहरहाल उन्होंने "मन की बात" में ...

मीडिया जगत में स्त्री शरीर को कैश कराने की होड़ कितनी सही कितनी गलत ....? ...

मीडिया जगत में स्त्री शरीर को कैश कराने की होड़ कितनी सही कितनी गलत ....? ...
सौंदर्य और आकर्षण का अटूट रिश्ता है, सौंदर्य से दुनियाँ के समृद्ध साहित्य अटे पड़े है, चाहे पूरब हो या पश्चिम सभी जगह कवियों ने साहित्यकारों ने, चित्रकारों ने यहाँ
सौंदर्य और आकर्षण का अटूट रिश्ता है, सौंदर्य से दुनियाँ के समृद्ध साहित्य अटे पड़े है, चाहे पूरब हो या पश्चिम सभी जगह कवियों ने साहित्यकारों ने, चित्रकारों ने यहाँ तक की ऋषि मुनियो ने भी सौंदर्य को अपना आधार बनाया! किसी ने प्रकृति की गोद में जाकर प्रकृति के सौंदर्य में ईश्वर को ढूंढा और पाया तो किसी ने स्त्री सौंदर्य में ही समूची प्रकृति को ढून ...

अब श्रीलंका के अखबार सीलोन टुडे ने जोड़ा एक नया आयाम ...

अब श्रीलंका के अखबार सीलोन टुडे  ने जोड़ा एक नया आयाम  ...
जब त्रि-आयामी यानी थ्री-डी सिनेमा आया, तो यह दुनिया भर में कौतूहल का विषय बना। थ्री-डी तकनीकी के इफेक्ट को महसूस करने के लिए खास चश्मे बने और दर्शकों
जब त्रि-आयामी यानी थ्री-डी सिनेमा आया, तो यह दुनिया भर में कौतूहल का विषय बना। थ्री-डी तकनीकी के इफेक्ट को महसूस करने के लिए खास चश्मे बने और दर्शकों को दिए गए। यह दृश्य माध्यम में थ्रिल और सनसनी का दौर था। सिनेमा के परदे से निकलकर यह तकनीक अखबारों और पत्रिकाओं तक भी पहुंची, हालांकि वहां इसने इतनी सनसनी नहीं पैदा की। लेकिन अब श्रीलंका के अखबार सीलो ...

बेस्ट नहीं , ब्रेस्ट मीडिया ...

बेस्ट नहीं , ब्रेस्ट मीडिया  ...
बेस्ट होता है सबसे बढ़िया , ब्रेस्ट औरत के स्तन को कहते हैं ! हालिया "नंगई" करने में माहिर, "टाइम्स ऑफ इंडिया" नाम के "बेस्ट" अंगरेजी अखबार, ने "ब्रेस्ट"
बेस्ट होता है सबसे बढ़िया , ब्रेस्ट औरत के स्तन को कहते हैं ! हालिया "नंगई" करने में माहिर, "टाइम्स ऑफ इंडिया" नाम के "बेस्ट" अंगरेजी अखबार, ने "ब्रेस्ट" जर्नलिज़्म की अपनी शातिराना परम्परा को जारी रखा ! बॉलीवुड की अदाकारा दीपिका पादुकोण के आंशिक स्तनों का पूरा प्रदर्शन करने की चाह में आलोचना का पात्र भी बना ! लोगों ने गरियाया भी ! ...

बचना - बढ़ना हिंदी का ....!! ...

बचना - बढ़ना हिंदी का ....!! ...
मेरे छोटे से शहर में जब पहली बार माल खुला , तो शहरवासियों के लिए यह किसी अजूबे से कम नहीं था। क्योंकि यहां सब कुछ अप्रत्याशित औऱ अकल्पनीय था। इसमें
तारकेश कुमार ओझा। मेरे छोटे से शहर में जब पहली बार माल खुला , तो शहरवासियों के लिए यह किसी अजूबे से कम नहीं था। क्योंकि यहां सब कुछ अप्रत्याशित औऱ अकल्पनीय था। इसमें पहुंचने पर लोगों को किसी सपनीली दुनिया में चले जाने का भान होता। बड़ी - बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के उत्पादों की चकाचौंध भरे विज्ञापन लोगों को हैरत में डाल देते थे। लेकिन इसमें एक ख ...

हिन्दी के लिये रुदन ...

हिन्दी के लिये रुदन  ...
हिन्दी के प्रति निष्ठा जताने वालों के लिये हर साल सितम्बर की 14 तारीख रुदन का दिन होता है। इस एक दिनी विलाप के लिये वे पूरे वर्ष भीतर ही भीतर तैयारी करते हैं
-मनोज कुमार हिन्दी के प्रति निष्ठा जताने वालों के लिये हर साल सितम्बर की 14 तारीख रुदन का दिन होता है। इस एक दिनी विलाप के लिये वे पूरे वर्ष भीतर ही भीतर तैयारी करते हैं लेकिन अनुभव हुआ है कि सालाना तैयारी हिन्दी में न होकर लगभग घृणा की जाने वाली भाषा अंग्रेजी में होती है। हिन्दी को प्रतिष्ठापित करने की कोशिश स्वाधीनता के पूर्व से हो रही है और ...

हरियाणवी दंगल में अपना-अपना मीडिया ...

हरियाणवी दंगल में अपना-अपना मीडिया ...
लोकतंत्र की बुनियादी जरूरत है स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव। इसे सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी भारत में जिस चुनाव आयोग की है, उसकी ईमानदारी की साख दुनिया भर
खुशदीप सहगल इस गड़बड़झाले में कैसे बन पाएगी स्वतंत्र राय सवाल सिर्फ निष्पक्षता और शुचिता का ही नहीं, चुनाव में सभी प्रत्याशियोंं को प्रचार के समान अवसर मुहैया कराने का भी है लोकतंत्र की बुनियादी जरूरत है स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव। इसे सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी भारत में जिस चुनाव आयोग की है, उसकी ईमानदारी की साख दुनिया भर में है। लेकि ...

TRAI Report on Media Ownership ...

TRAI Report on Media Ownership ...
The Telecom Regulatory Authority of India recently released its report on media ownership to a studied indifference from the print media which otherwise debates this issue vigorously. Why have the newspapers avoided a serious and vigorous engagement with the report’s consequential recommendations?
The Telecom Regulatory Authority of India recently released its report on media ownership to a studied indifference from the print media which otherwise debates this issue vigorously. Why have the newspapers avoided a serious and vigorous engagement with the report’s consequential recommendations? Given the general tone of public discussions ...

भारतीय मीडिया में खबरों का ज्वार - भाटा...!! ...

भारतीय मीडिया में खबरों का ज्वार - भाटा...!! ...
तारकेश कुमार ओझा। पता नहीं क्यों मुझे भारतीय मीडिया का मिजाज भारत - पाकिस्तान सीमा की तरह विरोधाभासी व अबूझ प्रतीत होता है। भारत - पाक की सीमा
तारकेश कुमार ओझा। पता नहीं क्यों मुझे भारतीय मीडिया का मिजाज भारत - पाकिस्तान सीमा की तरह विरोधाभासी व अबूझ प्रतीत होता है। भारत - पाक की सीमा में कब बम - गोलियां बरसने लगे और कब दोनों देशों के सैन्य अधिकारी आपस में हाथ मिलाते नजर आ जाएं, कहना मुश्किल है। अभी कुछ दिन पहले तक चैनलों पर सीमा में तनाव की इतनी खबरें चली कि लगने लगा कि दोनों देशों ...

हिंदी के अच्छे पत्रकार वही साबित हुए जिनकी अंग्रेजी पर भी सामान पकड़ हो ...

हिंदी के अच्छे पत्रकार वही साबित हुए जिनकी अंग्रेजी पर भी सामान पकड़ हो  ...
हो सकता है कि मेरे कहने से हिंदी भाषी आहत महसूस करें, लेकिन गौर करें तो हिंदी के अच्छे संपादक वही हुए हैं जिनका हिंदी के साथ अंग्रेजी पर समान अधिकार रहा।
हो सकता है कि मेरे कहने से हिंदी भाषी आहत महसूस करें, लेकिन गौर करें तो हिंदी के अच्छे संपादक वही हुए हैं जिनका हिंदी के साथ अंग्रेजी पर समान अधिकार रहा। स्वर्गीय अज्ञेय,मनोहर श्याम जोशी, राजेंद्र माथुर, प्रभाष जोशी से लेकर मौजूदा वक्त में प्रमोद जोशी और नीलाभ मिश्र पर ध्यान दें तो यह बात समान रूप से लागू होती है। शुष्क आंकड़ों और नीतियों को सम ...

आपबीतीः तो मनोज झा ने तो पिंकू की अंगुठी उतरवा दी ...

आपबीतीः तो मनोज झा ने तो पिंकू की अंगुठी उतरवा दी ...
मेरठ में एक मुहल्ला है, उमेश नगर। 2000 में अमर उजाला में काम करने के दौरान वहां कमरा लिया था। पड़ोस में आसपास ही पुराने दोस्त मुकेश सिंह, सतीश सिंह,
मेरठ में एक मुहल्ला है, उमेश नगर। 2000 में अमर उजाला में काम करने के दौरान वहां कमरा लिया था। पड़ोस में आसपास ही पुराने दोस्त मुकेश सिंह, सतीश सिंह, संजय श्रीवास्तव, दीपक सती, संजीव सिंह पुंडीर, दिनेश उप्रैती रहते थे। सभी अमर उजाला में काम करते थे। एक परिवार की तरह रहते थे। सुबह हो या शाम या दोपहर..कोई किसी के घर चला जाता था, चाय नाश्ता या भो ...

पुरस्कारों में भी चल रहा है खेल, एक हाथ से दे दूजे हाथ से ले ...

पुरस्कारों में भी चल रहा है खेल, एक हाथ से दे दूजे हाथ से ले ...
छब्बीस अगस्त को टीवी पर एक समाचार चैनल में नीचे की पट्टी पर हिंदी के कुछ लेखकों को मिले पुरस्कारों की सूचना देख रहा था। फेसबुक पर तो हर रोज कोई न कोई
छब्बीस अगस्त को टीवी पर एक समाचार चैनल में नीचे की पट्टी पर हिंदी के कुछ लेखकों को मिले पुरस्कारों की सूचना देख रहा था। फेसबुक पर तो हर रोज कोई न कोई लेखक अपने पुरस्कृत होने का जश्न मनाता हुआ दिखाई देता है। अगर हिसाब लगाया जाए तो अभी देश के गांव, प्रखंड, जिलों, कस्बों, महानगरों में हिंदी के लेखकों को मिलने वाले पुरस्कारों की संख्या हजारों में होगी। ...

​कंपनी या कारू का खजाना...? ...

​कंपनी या कारू का खजाना...? ...
तारकेश कुमार ओझा। एक कंपनी के कई कारोबार। कारोबार में शामिल पत्र - पत्रिकाओं का भी व्यापार। महिलाओं की एक पत्रिका की संपादिका का मासिक वेतन साढ़े सात
तारकेश कुमार ओझा। एक कंपनी के कई कारोबार। कारोबार में शामिल पत्र - पत्रिकाओं का भी व्यापार। महिलाओं की एक पत्रिका की संपादिका का मासिक वेतन साढ़े सात लाख रुपए तो समाचार पत्र समूह के सीईओ का साढ़े सोलह लाख से कुछ कम। पढ़ने - सुनने में यह भले यह अविश्सनीय सा लगे, लेकिन है पूरे सोलह आने सच। वह भी अपने ही देश में। हम बात कर रहे हैं हजारों करोड़ रुपयो ...

वरिष्ठ पत्रकार विकास मिश्रा की आपबीती, पढिए ...

वरिष्ठ पत्रकार विकास मिश्रा की आपबीती, पढिए ...
Vikas Mishra: करीब आठ साल बाद किराए के मकान में आया हूं। आठ साल खुद के फ्लैट में रहा। उससे पहले लंबा वक्त किराए के मकान में गुजरा है। तरह तरह
Vikas Mishra: करीब आठ साल बाद किराए के मकान में आया हूं। आठ साल खुद के फ्लैट में रहा। उससे पहले लंबा वक्त किराए के मकान में गुजरा है। तरह तरह के मकान, तरह तरह के मकान मालिक। हर घर में कई-कई कहानी। ये संयोग ही है कि हमेशा मकान मालिक के तौर पर बड़े अच्छे लोग मिले। मकान-मालिक और किराएदार का रिश्ता बस एक दिन का होता था, जब किराया देता था। बाकी तो घर ...
Latest News प्रभात खबर के खिलाफ भी नोटिस जारी Prasar Bharti discusses launch of DD India, DD Kisan डीडी किसान चैनल ने लांचिंग से पहले छेड़ा प्रचार अभियान रत्नाकर दीक्षित के आए अच्छे दिन, फिर ब्यूरो में तैनात Tata Coffee appoints Sanjiv Sarin as MD & CEO हिंदुस्तान, नोएडा से विनीत राय का इस्तीफा, नवभारत टाइम्स पहुंचे प्रभात खबर झारखंड और बिहार में सबसे तेज बढ़ता अखबार रूथ पोराट बनी गूगल की नई सीएफओ निम्स और न्यूज इंडिया के मालिक तोमर के घर के बाहर चिपकेगा ये पोस्टर अब 28 अप्रैल की हो बेहतर तैयारी टीवी पत्रकारों को जोकर किसने बनाया-3 जनसंदेश टाइम्‍स के निदेशक रितेश अग्रवाल को हार्ट अटैक, मेदांता अस्‍पताल में भर्ती कल तो अर्नब ने हद ही कर दी जनसंदेश प्रबंधन कर्मचारियों से जबरन करा रहा शपथ पत्र पर दस्तखत Supreme Court to hear Contempt Petitions on 28th April,2015 सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को वेब रत्न पुरस्कार गौतम कुंडू के गुर्गों का मीडिया पर हमला, तीन अस्पताल में भर्ती पूर्व विदेश सचिव निरुपमा राव नेटवर्क18 के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शामिल अपने मालिक बीएस तोमर के बचाव में उतरा न्यूज इंडिया अमर उजाला के कर्मचारियों के खाते में 12 हजार रुपये और उदय शंकर,नकवी और रजत शर्मा ही क्यों? दीपक, आशुतोष, विनोद कापड़ी जैसे लोग भी क्यों नहीं 12वें हफ्ते की टीआरपीः एबीपी दूसरे और इंडिया टीवी का बेडागर्क सुप्रीम कोर्ट में आज मजीठिया वेजबोर्ड को लेकर 30 केस की सुनवाई स्विस बैंक मामले में पायनियर अर्बन लैंड एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के सीएमडी मनीष पेरीवाल को स ज्यादा हिरोइनों संग विज्ञापन करोगे तो ऐसे भी दिन देखने पड़ेंगे मशहूर लेखक विकास स्वरूप विदेश मंत्रालय में प्रवक्ता नियुक्त मजीठिया पर सुनवाई आज, प्रभात खबर में एकता तोड़ने की कोशिश श्रीकांत सिंह ने भेजा खत, साजिश की ओर किया इशारा हिंदी TV न्यूज चैनलों की बुरी मौत के लिए कौन जिम्मेदार देखते रहें, किस हद तक गिरता है दैनिक जागरण प्रबंधन एक हजार और एफएम रेडियो चैनल खोलेगी सरकार निम्स, जयपुर के चेयरमैन बीएस तोमर को क्यों नहीं गिरफ्तार कर रही पुलिस सहारा को यहां से भी नहीं मिला सहारा कोयलांचल संवाददाता संघ के अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव के पिता का निधन मधुबनी में पत्रकार के घर चोरी हेराल्ड मामले में समन अवैध दैनिक भास्कर जयपुर के संपादक एल पी पंत की प्रताडना से तंग आकर सिंघल ने दिया इस्तीफा चलो धारा 66ए के रद्द होने से इनको तो मिल गई राहत, 22 थे इनपर मुकदमे टीवी एशिया के पत्रकार को दिल का दौरा पड़ा, तो दौड़ पड़े सीक्रेट सर्विसेज के कर्मचारी, जान बची टाइम्स इंटरनेट और ऊबर के बीच 150 करोड़ का करार व्यापम घोटाले में फंसे एमपी के गवर्नर के बेटे शैलेश यादव की ब्रेन हैमरेज से मौत दफ़्तर नहीं , पैसा नहीं , लोग नहीं, फ़िल्म भी बन गई और National award भी मिल गया कांग्रेस के 31 नए मीडिया पैनलिस्ट ये रहे, देखिए नाम अमिताव घोष बुकर प्राइज के 10 फाइनलिस्ट में नोएडा में चैनल के चालक से लूटपाट सुब्रत राय के खिलाफ वारंट, एक और संकट कर रहा है इंतजार दांपत्य सूत्र बंधन में बंधे दैनिक जागरण के सीईओ संजय गुप्त के पुत्र ध्रुव मध्यप्रदेश के चार पत्रकारों को विकास संवाद मीडिया फैलोशिप, पोषण सुरक्षा पर करेंगे काम अजय शुक्ला ने हरेंद्र को किया मेल, एचआऱडी से करो संपर्क कॉरपोरेट और सरकार के दबाव के बिना जनता की मीडिया कंपनी शुरू करने की चल रही कवायद